तीन घोड़िया एक घुड़सवार compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit evakuator-yaroslavl.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: तीन घोड़िया एक घुड़सवार

Unread post by rajaarkey » 10 Nov 2014 13:27



गीता ने पलट कर नही देखा क्यो कि उसके
उपर पड़े भार और अपनी चूत मे घुसे लंड से वह समझ गई कि यह अजय का लंड है और
उसकी मस्ती अपने बेटे के खड़े लंड को अपनी चूत मे पाकर मस्त होने लगी इधर आरती ने
अपने हाथो को रश्मि के नीचे लेजा कर उसकी मोटी मोटी चुचिया दबोचने लगी तब रश्मि
से भी नही रहा गया जो अपनी नंगी मा और भाभी के बीच दबी पड़ी हुई थी उसने भी अपना
हाथ अपनी मा की चूचियो पर ले जाकर अपनी मा की मोटी मोटी चुचियो को पकड़ कर कस कस
कर दबाने लगी तभी अजय ने एक करारा झटका अपनी मा की चूत मे मारा तो गीता कराह उठी
और फिर अजय ने अपना लंड निकाल कर अपनी बहन की चूत मे कस कर पेल दिया जिससे रश्मि पूरी तरह
नंगी अपनी मा से चिपक गई, तभी अजय ने अपना लंड बाहर निकाल लिया और पास मे रखी वेस
लीन की शीशी उठा लाया और उसने खूब सारा विस्लीन अपनी मा की अपनी बहन की और अपनी भाभी
की गुदा मे लगाने लगा तीनो जवान मस्तानी घोड़िया अपनी गंद फैलाए बड़े प्यार से अपनी
अपनी गंद मे वेस्लीन लगवा रही थी अजय ने वेस्लीन लगाते लगाते तीन घोड़ियो की चूत
भी बारी बारी से चाटना शुरू कर दी एक साथ तीन तीन चूत और गंद की मादक महक ने
अजाय को पागल कर दिया और उसका लंड झटके मारने लगा और वह कस कस कर अपनी मा बहन
और भाभी की नंगी चुतो को चाट चाट कर उनका पानी चूसने लगा. उसने उन तीनो बुरो की
चूत को इस कदर चूसा कि तीनो घोड़ियो ने अपने होश हवाश खो दिए और उन्हे अब अपनी
चूत चुसवाना उनके बस मे नही रहा तभी गीता ने झटके से पलते हुए अपनी बेटी
रश्मि और बहू को पूरी नंगी ही अपने नंगे बदन से चिपका लिया और पागलो की तरह अपनी
नंगी बेटी और बहू के नंगे बदन को चूमने लगी यही हाल रश्मि और आरती का था वह
दोनो भी एक दूसरे को खूब चूसने लगी किसी को भी यह समझ नही आ रहा था कि कॉन कहाँ
और किसको चूम चाट रहा है तभी अजय भी तीनो नंगी घोड़ियो के साथ चिपक कर जहाँ
मन हो रहा था वहाँ हाथ लगा कर मसल रहा था वह जहा हाथ लगाता उसके हाथ मे
कभी बोबे कभी मोटी गंद कभी मोटे मोटे दूध आ जाते थे चारो ने एक दूसरे के नंगे
जिस्म को इस कदर सहलाना शुरू कर दिया कि उन चारो को यह नही समझ आ रहा था कि किसकी
चूत है किसकी गंद है और किसके बोबे है, और उन पर ऐसी मस्ती चढ़ रही थी कि पूरा
डबल बेड उनकी मस्तियो से चरमरा उठा और पूरे कमरे मे आह ओह आह हाँ ऐसे ही सी सी
आह आह हाय मार दिया रे और जोरे से हाँ ऐसे ही खूब कस के आह आह की भयानक आवाज़ गूँज
उठी अजय बिकुल पागल हो गया और कस कस कर उनके चूतादो पर थप्पड़ मारने लगा और
तीनो घोड़िया बेड पर नंगी घोड़ियो की तरह लोटने लगी

क्रमशः......................




rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: तीन घोड़िया एक घुड़सवार

Unread post by rajaarkey » 10 Nov 2014 13:28


Teen Ghodiya Ek Ghudsawaar--16

gataank se aage...................


udhar ajay ne apni didi ko apne land ke aage kar liya aur dono bhai bahan apni ma aur
bhabhi ka nanga nach dekhne lage, ajay peeche khada khada apni didi ki ek hath se bur
masal raha tha aur ek hanth se uski moti moti chuchiyo ko dabata ja raha tha aur didi kaisa
lag raha hai rashmi ne bhi apne bhai ka mota land apne hath mai lekar dabochte huye kaha
oh bhaiya bahut maza aa raha hai tum apni pyari didi ko nangi kar do mai yahi par nangi
hokar apni mummy ko chut chuswate aur bhabhi ki chut chuste dekhna chahti hu, bhaiya
apni mummy kitni chudasi hai aur uski gadrai jawani kitni mast lag rahi hai mujhe to samajh
nahi aa raha hai ki tum mummy ki aisi nangi jawani dekh kar use din rat kyo nahi chodte ho,
vah to itni chudsi hai ki din rat tumhare mote land par bethi rahegi, are didi aaj mai tumhari,
bhabhi ki aur mummy ki aisi chut marunga ki tum dekhti rah jaogi,

udhar geeta bahu teri chuchiya pahle se kitni moti ho gai hai, lagta hai jaise inme doodh
bhar gaya ho, are ma ji yah to aapke bete ne inhe masal masal kar itna bada kar diya hai,
geeta apni bahu ki moti chuchiya masalte huye bahu bade bete ne ki chhote bete ne, aarti
ma ji usi bete ne jisne apki ye gand mar mar kar itni moti aur chodi kar di hai aur aarti ne
apni sas ke mote mote chutado ke beech apni ungli ghusa di geeta ne bhi apni bahu ki chut
mai apni ungli ghusate huye ha bahu tu thik kahti hai jab se mere bete ne meri gand marna
shuru ki hai tab se mere chutad aur phail gaye hai, bahu mera to bhosda bhi ajay ka land
kha kha kar khub choda ho gaya hai, aarti apni sas ki phuli chut ko apne hantho se
dabochte huye maji thoda dhyan rakh kar apne bete se apni chut marwaya kijiye kahi
aapko chod chod kar apne bhachche ki ma na bana de mujhe to do bar thahra chuka hai
vo to maine time se goliya kha li nahi to ab tak tum dadi ban chuki hoti aur ajay chacha aur
papa dono ban gaya hota, phir aarti ne kaha maji ab mai aapki gand aur chut ka ras peeche
se peena chahti ho, aur do takiye bed par lagakar apni sa ko pet ke bal takiya uski kamar ke
neeche laga kar lita diya jisse geeta ki moti gand aur chut ki badi badi phuli hui gadrai
phanke alag ho gai, aarti maji ab apni aankhe band kar lo mai tumhe jannat ki ser karwati
huaur apni sa ki dono jangho ko phaila diya, rashmi aur ajay apni ma ko apne mote mote
chutad phailaye dekh rahe the unhe apni ma ki phati hui gadrai chut ki khuli hui phanke aur
bada sa chut aur gand ka gulabi chhed najar aa raha tha, ajay apni didi ki chuchiyo aur moti
gand ko kas kas kar daba raha tha aur rashmi apne bhai ke mote land ko sahla rahi thi,





aarti
apni sas ki dono jangho ko aur phailate huye uski chut aur gand ke chhed ko apna muh
khol kar apni jeebh se chatne lagti hai aur geeta siskiya lene lag jati hai tabhi ajay apni didi
ko chumte huye chalo ab chupchap ham mummy ke pairo ke pas chalte hai, aur rashmi jo
ki puri nangi ho chuki thi aur ajay ne bhi apne kapde utar diye the ab dono apni bhabhi ke
pas chale gaye to aarti ne chupchap apna muh apni sas ki phuli hui chut se hataya aur
rashmi ko apni ma ki chut ke pas betha kar use apni mummy ki phati hui chut chatne ka
kahne lagi rashmi thoda ghabrate huye jhuk kar apni ma ki mast bhosdi ka ras peene lagi
tabhi aarti rashmi ki gand ke peeche aa gai aur jhuk kar apni nanad ki moti gand aur chut
ko chatne lagi, aur apni bhabhi ki moti aur gadrai gand ke peeche ajay khada hokar apni
bhabhi ki chut mai apna land peeche se phansa kar apni bhabhi ki chut mai dhakke marne
laga ab sabhi ek dusre ko maza de rahe the aur kamare mai aah aah si si oh aah aah jaisi
madak siskariya gunjne lagi, geeta are bahu thoda apni jeebh ko meri chut ke chhed mai
andar tak pel na tab rashmi ne apni ma ki chut ko apne hantho se khub phaila liya jisse
uska bada sa gulani chhed pura ras se laplapane laga aur rashmi ne apni mummy ki bur ko
pura apne muh mai bhar kar kha jane ke andaj mai apni mummy ki rasili chut ko chatne lagi
geeta aah aah aah ha ha ha bahu aise hi aah si si aah rashmi ko khub maza aane laga tab
usne thoda apni gand ko aur hilaya to aarti uska ishara samajh kar aarti ne bhi apni nanad
ki kuwari chut ko aur phaila kar khub kas kas kar chatna shuru kar diya, jisse rashmi ko
khub maza aane laga aur usne apne muh ki pakad apni ma ki phuli chut par aur kas kar
jama li geeta aah aah vah bahu aaj to tu alag hi dhang se meri chut chat rahi hai aaj to bahut
hi maza aa raha hai aur chat beti aur chat tu to meri beti jaisi hai, aur agar teri jagah meri beti
bhi meri chut chatti to mai use bhi bade pyar se apni chut chuswa chuswa kar lal kar leti
aah aah shabash beti aah, tabhi ajay ne apni nanhi ki gand mai ek kas kar dhakka mara
jisse aarti apni nanad ki gand ke upar gir gai aur rashmi apni ma ki moti gand ke upar puri
nangi hokar pasar gai tab aarti ne rashmi ko aur upar dhakel kar use apni nangi ma ke upar
chadha diya aur khud bhi rashmi ki peeth aur mote mote chutado par so gai aur ajay apni
bhabhi ki chut mai land pelne laga tabhi jajay ne apna mota land apni bhabhi ki chut se
nikal kar sidhe apni ma ki chut mai thok diya,






geeta ne palat kar nahi dekha kyo ki uske
upar pade bhar aur apni chut mai ghuse land se vah samajh gai ki yah ajajy ka land hai aur
uski masti apne bete ke khade land ko apni chut mai pakar mast hone lagi idhar aarti ne
apne hatho ko rashmi ke neeche lejakar uski moti moti chuchiya dabochne lagi tab rashmi
se bhi nahi raha gaya jo apni nangi ma aur bhabhi ke beech dabi padi hui thi usne bhi apna
hath apni ma ki chhatiyo par le jakar apni ma ki moti moti chuchiyo ko pakad kar kas kas
kar dabane lagi tabhi ajay ne ek karara jhatka apni ma ki chut mai mara to geeta karah uthi
aur phir ajay ne apna land nikal kar apni bahan ki chut mai kas kar pel diya jisse rahmi puti
nangi apni ma se chipak gai, tabhi ajay ne apna land bahar nikal liya aur pas mai rakhi vais
leen ki shishi utha laya aur usne khub sara visleen apni ma ki apni bahan ki aur apni bhabhi
ki guda mai lagane laga teeno jawan mastani ghodiya apni gand phailaye bade pyar se apni
apni gand mai vaisleen lagawa rahi thi ajay ne vaisleen lagate lagate teen ghodiyo ki chut
bhi bari bari se chatna shuru kar di ek sath teen teen chut aur gand ki madak maahak ne
ajaay ko pagal kar diya aur uska land jhatke marne laga aur vah kas kas kar apni ma bahan
aur bhabhi ki nangi chuto ko chat chat kar unka pani chusne laga. usne un teeno buro ki
chut ko is kadar chsa ki teeno ghodiyo ne apne hosh hawash kho diye aur unhe ab apni
chut chuswana unke bas mai nahi raha tabhi geeta ne jhatke se palate huye apni beti
rashmi aur bahu ko puri nangi hi apne nange badan se chipka liya aur paglo ki tarah apni
nangi beti aur bahu ke nange badan ko chumne lagi yahi hal rashmi aur aarti ka tha vah
dono bhi ek dusre ko khub chusne lagi kisi ko bhi yah samajh nahi aa raha tha ki kon kaha
aur kisko chum chat raha hai tabhi ajay bhi teeno nangi ghodiyo ke sath chipak kar jaha
man ho raha tha vaha hath laga kar masal raha tha vah jaha hath lagata uske hath mai
kabhi bobe kabhi moti gand kabhi mote mote doodh aa jate the charo ne ek dusre ke nange
jism ko is kadar sahlana shuru kar diya ki un charo ko yah nahi samajh aa raha tha ki kiski
chut hai kiski gand hai aur kiske bobe hai, aur un par aisi masti chadh rahi thi ki pura
double bed unki mastiyo se charmara utha aur pure kamare mai aah oh aah ha aise hi si si
aah aah hay mar diya re aur jore se ha aise hi khub kas ke aah aah ki bhayanak aawaj gunj
uthi ajay bikul pagal ho gaya aur kas kas kar unke chutado par thapad marne laga aur
teeno ghodiya bed par nangi ghodiyo ki tarah lotne lagi

kramashah......................

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: तीन घोड़िया एक घुड़सवार

Unread post by rajaarkey » 10 Nov 2014 13:29


तीन घोड़िया एक घुड़सवार--17

गतान्क से आगे...................

तभी गीता ने रश्मि की बुर को
अपने मूह मे भर लिया रश्मि ने अपनी अपनी भाबी की बुर को अपने होंठो से जाकड़ लिया अजय
तीनो मस्तानी घोड़ियो की मस्ती देख कर सनसना गया और उसने खूब सारा वैसलीन अपने
लंड पर पोता और अपनी मा की उठी हुई गंद पर रख कर एक करारा धक्का मारा जिससे उसका
लंड पूरा जड़ तक उसकी मा की गंद को चीरता हुआ अंदर घुश गया और अजय सतसट अपनी मा
की मोटी गंद को कस कस कर चोदने लगा. और उसकी मम्मी अपनी गंद पर पड़ते मोटे लंड
के जोश मे अपनी बेटी की चूत को खूब ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी गीता की गंद मे जितना तेज झतका
उसके बेटे का लगता गीता उतनी ही तेज तरीके से अपनी बेटी की चूत चाटने लगती और गीता जितनी तेज
अपनी बेटी की चूत चाट्ती रश्मि उतनी ही तेज तरीके से अपनी भाभी की चूत चाट्ती, पूरा कमरा उनकी
चूत और गंद की मादक गंध से महकने लगा, गीता की गंद की मीठी मीठी खुजली जितनी
ज़्यादा बढ़ रही थी अपने बेटे के मोटे लंड की रगड़ाहट से उसकी गंद मे उतना ही मज़ा आ
रहा था, तभी रश्मि बर्दास्त ना कर सकी और अपनी मम्मी के मूह मे मूतने लगी और आरती
की गुलाबी चूत को खाने लगी रश्मि के इस तरह अपनी चूत को खाने से आरती भी मूतने लगी
और फिट रश्मि ने अपनी मा के मूह मे और आरती ने रश्मि के मूह मे मूत दिया, गीता अपनी
बेटी की बुर को छ्चोड़ने का नाम ही नही ले रही थी और बेतहाशा अपनी बेटी बुर चूसे जा रही थी
अजय अपनी मम्मी की गंद मार मार कर उसकी गुदा को लाल कर चुका था और अपनी मा की लाल लाल
गुदा जब वह देखता तो बिल्कुल कस कस कर लंड अपनी मम्मी की मोटी गंद मे मारता,
वैसलीन की चिकनाहट के कारण गीता की गंद से सॅट सॅट की आवाज़ आ रही थी तभी रश्मि
उठकर अपनी मम्मी के नीचे घुस कर उसके खड़े हुए भज्नसे को अपने मूह मे भर
लेती है और आरती अपनी सास के मोटे मोटे थनो को दबा दबा कर अपने मूह से चूसने लगती
है, गीता अब अपने हर अंग की चुसाइ से बिल्कुल मदहोश होने लगी और उसकी गंद का मज़ा
और बढ़ गया और उसकी चूत पिघल कर बहने लगी अपनी बेटी द्वारा लगातार अपना खड़ा हुआ
भज्नशा चूसे जाने से गीता ज़्यादा देर टिक ना सकी और अपनी बेटी के मूह मे अपनी चूत को
रगड़ती हुई आह आह करती हुई झाड़ गई, तभी अजय ने अपना लंड बाहर निकालकर अपनी मम्मी के
मूह मे दे दिया और गीता उसे चूसने लगी तभी अजय ने एक ज़ोर दार पिचकारी अपनी मा के मूह
मे मारी और गीता उसका सारा रस लंड को दबा दबा कर चूस गई और फिर धम से अपने
बिस्तेर पर गिर पड़ी, अब आरती और रश्मि ने अजय के लंड को झट से अपने मूह से चाटना
शुरू कर दिया जिसे गीता हफ्ते हुए देख रही थी थोड़ी ही देर मे अजय के लंड की नसे
फूलने लगी और उसका मोटा लंड फिर खड़ा हो गया जिसे देख गीता अपने आप को रोक ना सकी
और फिर तीनो घोड़िया लंड चूसने के लिए एक दूसरे के मूह से लंड को पकड़ पकड़ कर
ऐसे खिचने लगी जैसे तीनो मे लंड को खा जाने की होड़ लगी हो तभी अजय बेड पर खड़ा
हो गया और उसने नंगी बैठी रश्मि की दोनो टाँगो को अपनी कमर के इर्द गिर्द लपेटते हुए
अपनी दीदी को अपने खड़े लंड पर चढ़ा कर तंग लिया और लंड पूरा अपनी दीदी की चूत मे
उतार दिया और अपने हाथो को अपनी दीदी की मस्त जाँघो को पकड़ते हुए उसे अपने लंड पर
उपर नीचे करने लगा रश्मि अपनी चूत फैलाए अपने भाई के गले मे बाँहे डाले उसके
होंठो को चूसने लगी इधर नीचे बैठी दोनो घोड़ियो ने अपने घुटनो पर खड़ी होकर
रश्मि की चूत मे घुसे अजय के लंड के लटके हुए गोटू को अपने मूह से चटना शुरू कर
दिया अजय का मज़ा दुगुना हो गया और उसने अपनी बहन को थोड़ा उपर उठा कर धीरे धीरे
उसकी गंद के छेद को अपने लंड पर सटा दिया और रश्मि अपने सारे शरीर का भार अपने
भाई के लंड पर डालने लगी तभी नीचे बैठी दोनो सास बहू ने अपने हाथो से रश्मि की
गंद को और फैलाते हुए अजय के लंड को रश्मि की गंद मे धसाने लगी और फिर अजय ने
एक करारा झटका मारा और सारा का सारा लंड अपनी दीदी की गोरी गंद मे पेल दिया





रश्मि आह आह करती हुई अपने भाई के बदन से चिपक गई दोनो घोड़िया अजय के बाल्स को अपने मूह मे
भर भर के उसकी एक एक गोटियो को अपनी जीभ से सहलाने लगी फिर अजय ने अपनी दीदी की गंद
मे लॅंड फसाए फसाए उसे बेट पर लिटा कर कस कस कर उसकी गंद मारना शुरू कर दी और
रश्मि आह आह ओह भैया मैं मर जाउन्गि ओह भैया और चोदो और चोदो खूब कस कस कर
अपनी दीदी की गंद को फाड़ दो आह आह आह ओह रश्मि की गंद मे सतसट लंड के धक्के
पड़ने लगे तभी गीता और आरती ने रश्मि की एक एक चुचियो को अपने मूह मे भर कर
चूसना शुरू कर दिया तभी अजय ने अपनी भाभी को गंद उठाए देखा जो झुक कर रश्मि
की चुचियो को चूस रही थी और अजय को अपनी भाभी की गुदा मे खूबसारा वेस्लीन लगा
देख कर उससे बर्दास्त नही हुआ और उसने रश्मि की गंद से अपना लंड बाहर खींचा और एक
झटके मे अपनी भाभी की गंद मे पूरा लंड पेल कर जड़ तक पहुचा दिया और आरती आह मर
गई रे आह करके सिसकिया मारती हुई अपनी मोटी गंद का धक्का अजय के लंड पर मारने लगी
तभी उधर रश्मि की चूत पर उसकी मा टूट पड़ी और उसकी बुर को चूसने लगी और गीता ने इस
कदर अपनी बेटी की रसीली बुर को चूसा की वह दो मिनिट मे ही फिर से अपनी मम्मी के मूह
मैं मूत दी जिसे गीता ने बड़े प्यार से चाट चाट कर उसकी पूरी चूत को गुलाबी से लाल कर दिया,
अब अजय ने तीनो घोड़ियो को पास पास करके तीनो को घोड़िया बना का अपनी मा को बीच
मे करके बहन और भाभी को आस पास कर दिया और अपनी मा की गंद मे फिर से एक तगड़ा
झटका मारते हुए अपना लंड अपनी मम्मी की पूरी गुदा के जड़ तक पेल दिया और आजू बाजू हाथ
करके अपनी बहन और भाभी की मस्तानी गंद मे अपनी उंगली भर कर आगे पीछे करने
लगा, कभी अजय अपनी बहन की गंद मे लंड उतार कर चोदने लगता कभी अपनी भाभी की
गंद मे लंड घुसेड देता और कभी अपनी मम्मी की मोटी गंद मे अपना लंड घुसेड कर
अपनी मम्मी की मोटी गंद मारने लगता अजय रुक रुक कर बारी बारी से उन तीनो घोड़ियो की
मस्त गंद को चोदने लगा उसने लगातार बदल बदल कर गंद मार मार कर तीनो घोड़िओ की
गंद के छेद को चोडा करके लाल कर दिया, काफ़ी देर तक जब वह गंद मार मार कर थक
गया तब उसने तीनो गोडियो को एक साथ लेटने को कहा पहले अपनी मम्मी को पीठ के बल
सीधा करके लिटा दिया फिर अपनी भाभी को पीठ के बल अपनी मम्मी के उपर लिटा दिया और
गीता ने अपनी बहू के दूध को कस कर दबा लिया फिर अजय ने रश्मि को अपनी भाभी के
उपर पीठ के बल लिटा दिया आरती भी रश्मि के मोटे मोटे दूध को दबोच कर मसल्ने
लगी अब अजय ने तीनो की जाँघो को फैलाकर उपर की ओर उठा दिया अब अज़जी के सामने तीन
तीन मोटे मोटे भोस्डे खुले पड़े थे और अजय उन तीन तीन भोसड़ो को देख कर पागलो की
तरह अपनी मम्मी बहन और भाभी की चूत को चाटने चूसने लगा वह तीनो घोड़ियो की
चूत का रस खींच खींच कर पी रहा था और तीनो घोड़िया अपने अपने हाथो से एक दूसरे
के बोबो को दबा रही थी और खूब ज़ोर ज़ोर से सीसीया रही काफ़ी देर तक तीनो की बुर का पानी
चाट चाट कर अजय ने उनकी बुर को लाल कर दिया था फिर अजय कभी अपनी मा की चूत मे लंड
पेलता कभी अपनी दीदी की चूत मे सॅट से घुसा देता और कभी अपनी भाभी की चूत को फाड़ने
लगता इस तरह उसने लगातार उनकी चूत को बारी बारी से मारना शुरू कर दिया वो तीनो लगातार
एक दूसरे के नंगे शरीर को अपने शरीर से रगड़ती हुई एक दूसरे के दूध को दबोच रही
थी और अजय उनकी चूत को पूरी ताक़त से कूट रहा था फिर तीनो घोड़िया एक दम से ज़ोर ज़ोर से
सिस्याने लगी अजय की मम्मी कहती आह आह हाँ हाँ हाँ बेटा मुझे चोद और ज़ोर से चोद और
उसकी भाभी कहती मेरे देवेर जी चोदो आह आह और चोदो खूब चोदो फाड़ दो अपनी भाभी
की चूत तभी रश्मि की चूत मे लंड पेलता तो रश्मि पागलो की तरह आह आह ओह ओह ओ भैया
और चोद फाड़ दे अपनी दीदी की चूत और चोद खूब चोद मेरे राजा, इस तरह पहले आरती फिर
रश्मि और फिर गीता झड़ने लगी और अजय उनके उपर उल्टा लेट कर उनकी झड़ती चुतो को चाटने
लगा और उसकी मम्मी बहन और भाभी ने अजय के लंड को अपने मूह मे लेकर खिचना
शुरू कर दिया उन तीनो ने उसके लंड को अपने मूह के बीच मे लेकर कभी उसकी मा उसका
लंड चाट्ती कभी उसकी बहन और कभी भाभी उन तीनो घोड़ियो की इस मादक लंड चूसा से
अजय अपने आप को ज़्यादा देर रोक नही पाया और उसने जैसे ही अपनी पिचकारी मारी तीनो घोड़िया
उस घुड़सवार का लंड का रस चूस चूस कर उसके लंड को लाल कर चुकी थी और उसने अपनी
तीनो मा बहन और भाभी की चूत को चाट चाट कर लाल कर दिया और फिर चारो एक दम
नंगे एक दूसरे से चिपककर हफने लगे और पूरे रूम मे सिर्फ़ और सिर्फ़ उनकी सांसो की
आवाज़ सुनाई दे रही थी. इस तरह एक घुड़सवार ने तीन घोड़ियो की मस्त तरीके से घुड़सवारी
की, और फिर उनका यह सिलसिला चलता रहा और उन चारो को मस्ती की बहार देता रहा
समाप्त
दा एंड